चरम सुख (ऑर्गेज्म) का अनुभव कैसा होता है

चरम सुख (ऑर्गेज्म) के दौरान क्या होता है? क्या आप जानतीं हैं सेक्स में चरम सुख का अनुभव कैसा होता है, सेक्स करते समय जब महिला की यौन उत्तेजना अपने चरम पर पहुंच जाती है तो उस स्थिति को चरम सुख कहा जाता है। सेक्स या मस्टरबेशन (हस्तमैथुन) के दौरान महिला को ऑर्गेज्म के आनंद का अनुभव होता है। कहा जाता है कि ऑर्गेज्म (चरम सुख) के बारे में बताना, भगवान के बारे में व्याख्या करने के बराबर होता है। कहने का अर्थ यह है कि कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिन्हें महसूस तो किया जा सकता है लेकिन सही तरीके से उसकी व्याख्या नहीं की जा सकती है। महिला ऑर्गेज्म (orgasm) भी इनमें से एक चीज है।  

आंकड़े बताते हैं कि सभी महिलाएं ऑर्गेज्म तक नहीं पहुंच पाती हैं और उन्हें ऑर्गेज्म का सुख मिलता भी है तो कभी कभी ही। जबकि कुछ महिलाओं को ऑर्गेज्म से ही जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आमतौर पर यह माना जाता है कि यदि महिला ऑर्गेज्म तक पहुंच  गयी तो इसका अर्थ यह है कि उसने सेक्स का भरपूर आनंद प्राप्त कर लिया। इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि ऑर्गेज्म कितनी बड़ी चीज है। इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं कि चरम सुख (ऑर्गेज्म) का अनुभव कैसा होता है।

ऑर्गेज्म का अनुभव शरीर को हिलाने जैसा होता है – Orgasm feels like BODY SHAKING in Hindi

ऑर्गेज्म का अनुभव शरीर को हिलाने जैसा होता है - Orgasm feels like BODY SHAKING in Hindi

ज्यादातर महिलाओं का मानना है कि ऑर्गेज्म के दौरान उन्हें ऐसा महसूस होता है जैसे उनका पूरा शरीर अंदर से हिल गया हो और ढीला पड़ गया हो। कभी कभी उन्हें ऑर्गेज्म का अनुभव बहुत तीव्र होता है और ऐसा महसूस होता है जैसे शरीर की सभी नाड़ियों (pulses) में तीव्र यौन उत्तेजना हो रही हो और बाकी शरीर की अपेक्षा सबकुछ योनि(vagina) के अंदर ही हो रहा हो।

ऑर्गेज्म के दौरान दिल की धड़कन बढ़ जाती है – Orgasm feels like heart beat must quicken in Hindi

ऑर्गेज्म के दौरान दिल की धड़कन बढ़ जाती है - Orgasm feels like heart beat must quicken in Hindi

महिलाओं में ऑर्गेज्म योनि की दीवारों में संकुचन (contractions) के कारण होता है। वास्तव में ये संकुचन अनैच्छिक (involuntary) यानि अपने नियंत्रण में नहीं होते हैं। आमतौर पर महिलाएं संभोग के दौरान ऑर्गेज्म को महसूस तो करती ही हैं साथ में हस्तमैथुन (masturbation) के दौरान भी इसे उतनी ही तेजी से महसूस किया जा सकता है। महिलाएं बताती हैं कि जब वे ऑर्गेज्म का अनुभव करती हैं तो उनके दिल की धड़कन (heart beat ) बहुत तेज हो जाती है और पूरे शरीर में एक प्रकार की ऊर्जा का प्रवाह होने लगता है और स्तन फूलने लगते हैं एवं निप्पल खड़े (erect) हो जाते हैं।

ऑर्गेज्म का अनुभव कोई चीज झटके से निकलने जैसा होता है – Orgasm feels like Twitching in Hindi

ऑर्गेज्म का अनुभव कोई चीज झटके से निकलने जैसा होता है - Orgasm feels like Twitching in Hindi

सबसे पहले आंतरिक जांघों (inner thighs) में कुछ ऐसा महसूस होता है जो काफी अच्छा लगता है इसके बाद एक गर्माहट का अनुभव होता है। इसके अलावा इसी तरह की फीलिंग एवं गर्माहट (warmness) पेट के निचले हिस्से में होती है और ऐसा मन करता है जैसे यह बनी रहे। इसके बाद यह शरीर के पूरे निचले हिस्से में फैल जाता है और ऐसा महसूस होता है जैसे योनि में कहीं से बहुत झटके से कोई चीज आ रही हो। यह फीलिंग पूरी तरह से शारीरिक एवं अंदरुनी होती है और लगभग 15 सेकेंड तक बनी रहती है।

चरम सुख का अनुभव बहुत सुखदायक होता है – Orgasm feels like more pleasure in Hindi

चरम सुख का अनुभव बहुत सुखदायक होता है - Orgasm feels like more pleasure in Hindi

सेक्स के दौरान कुछ स्ट्रोक लगाने के बाद जब योनि से तरल पदार्थ (fluid) काफी अधिक मात्रा में निकल जाता है यानि ऑर्गेज्म प्राप्त हो जाता है तब आधे शरीर में राहत महसूस होती है और शरीर का निचला हिस्सा पूरी तरह से तनावमुक्त हो जाता है। इसके बाद सेक्स का आनंद इतना ज्यादा बढ़ जाता है जैसे वह अलग दुनिया में पहुंचा देता है। पैरों, जांघों एवं मांसपेशियों में एक अलग तरह की गुदगुदी (tickling) होती है और सब कुछ पूरी तरह से शांत सा महसूस होता है एवं अच्छा लगता है।

ऑर्गेज्म में सनसनाहट एवं राहत महसूस होती है – Orgasm feels like Tingles and relief in Hindi

ऑर्गेज्म में सनसनाहट एवं राहत महसूस होती है - Orgasm feels like Tingles and relief in Hindi

जब हम अकेले कमरे में बैठकर कोई कामुक फिल्म या पोर्नोग्राफी देखते हैं तो हमारे शरीर में अचानक उत्तेजना होने लगती है। कभी कभी उत्तेजना इतनी बढ़ जाती है कि हमारी योनि भी गीली हो जाती है। इसके बाद शरीर में एक अजीब तरह की सनसनाहट महसूस होती है और जब पर्याप्त तरल पदार्थ निकल जाता है तब शरीर को राहत मिलती है। वास्तव में महिलाओं का मानना है कि ऑर्गेज्म का अनुभव भी इसी प्रकार से होता है। शरीर में बहुत तेजी से सनसनाहट महसूस होता है और यह इतना अच्छा लगता है कि इसे कुछ देर तक और बने रहना चाहिए लेकिन यह जल्दी ही खत्म हो जाता है।

 

चरम सुख की अनुभूति तरंग के समान होती है – Charam sukh ki anubhuti feels like A wave in Hindi

चरम सुख की अनुभूति तरंग के समान होती है - Charam sukh ki anubhuti feels like A wave in Hindi

महिलाएं बताती हैं कि ऑर्गेज्म के दौरान उन्हें ऐसा महसूस होता है जैसे उनके शरीर में कोई चमत्कारित ऊर्जा उत्पन्न हो गयी हो और वह पूरे शरीर को टोन कर रही हो। इस दौरान महिलाओं के शरीर का प्रत्येक अंग संवेदनशील हो जाता है और क्लिटोरिस को छूने के कारण ही ऑर्गेज्म का सुख सबसे अधिक और तीव्र रुप से प्राप्त होता है। ऑर्गेज्म का अनुभव होने का अर्थ यह होता है कि महिला सेक्स से पूरी तरह संतुष्ट हो गई है। ऑर्गेज्म का अनुभव होने के बाद कुछ महिलाओं का शरीर इतना शांत हो जाता है कि उन्हें आंतरिक खुशी की अनुभूति होती है और अच्छी नींद भी आती है।

ऑर्गेज्म की प्राप्ति में गर्माहट का अनुभव होता है – Charam sukh ki prapti feels Really warm in Hindi

ऑर्गेज्म की प्राप्ति में गर्माहट का अनुभव होता है - Charam sukh ki prapti feels Really warm in Hindi

आमतौर पर ऑर्गेज्म के अनुभव के बारे में कुछ महिलाओं का कहना है कि यह वास्तव में बहुत गर्मागर्म होता है। जब ऑर्गेज्म का अनुभव होता है तो शरीर से पसीना आने लगता है और शरीर में एक अजीब तरह की तरंग (wave) दौड़ती है। जब यह तरंगे गायब हो जाती हैं तो शरीर में महज एक सनसनाहट सी बचती है और अधिक प्यास लगती है। महिलाओं का कहना है कि जब उन्हें ऑर्गेज्म की प्राप्ति होती है तो उन्हें लगता है कि वे यौन रुप से स्वस्थ हैं।

चरम सुख की प्राप्ति में अधिक आनंद की अनुभूति होती है – Orgasm feels blissful in Hindi

चरम सुख की प्राप्ति में अधिक आनंद की अनुभूति होती है - Orgasm feels blissful in Hindi

ऑर्गेज्म का अनुभव वास्तव में काफी रोमांचक होता है। इस दौरान शरीर में झुनझनी की लहर (tingling wave) दौड़ जाती है और पूरा शरीर जैसे आनंदित महसूस करता है। इसके अलावा महिलाएं बताती हैं कि इस दौरान शरीर से इतना पसीना (sweating) आता है जैसे उन्होंने पहाड़ चढ़ लिया हो। हालांकि ऑर्गेज्म का सुख मिलने पर थोड़ी थकावट का भी अनुभव जरुर होता है। ऑर्गेज्म के दौरान शरीर एवं मूड नशे में रहता है और ऐसा लगता है जैसे दोबारा से इसका उतना ही आनंद मिले।

ऑर्गेज्म के दौरान पूरे शरीर पर दबाव महसूस होता है – Orgasm feels like Pressure inside my body in Hindi

ऑर्गेज्म के दौरान पूरे शरीर पर दबाव महसूस होता है - Orgasm feels like Pressure inside my body in Hindi

कुछ महिलाओं के लिए क्लिटोरिस का ऑर्गेज्म बहुत बेहतरीन होता है। भगशेफ (clitoris) को सहलाने के बाद जब योनि से पानी निकलना शुरू होता है तो इसकी गति बहुत तीव्र होती है और इस दौरान शरीर के अंदर एक दबाव का अनुभव होता है। इसके कारण पेट एवं रीढ़ (spine) में काफी दबाव का अनुभव होता है और ऑर्गेज्म का सुख मिलने के बाद पूरा शरीर कुछ देर के लिए सुस्त पड़ जाता है लेकिन इसके बाद अचानक से काफी ऊर्जा की अनुभूति होती है।

सेक्स में चरम सुख के दौरान पूरा शरीर टाइट हो जाता है – Orgasm feels like whole body tight in Hindi

सेक्स में चरम सुख के दौरान पूरा शरीर टाइट हो जाता है - Orgasm feels like whole body tight in Hindi

वास्तव में ऑर्गेज्म के दौरान पूरा शरीर कड़ा (tightens) हो जाता है और शरीर के ऊपर इतना ज्यादा प्रेशर पड़ता है कि पैरों के जांघों में ऐंठन सी महसूस होने लगती है। इस दौरान योनि के अंदर रुक रुककर तरंगें (wave) उठती हैं और पूरे शरीर सहित योनि के अंदर की मांसपेशियां अपना नियंत्रण खो देती हैं। इस दौरान ऑर्गेज्म की अनुभूति परमानंद (Bliss) से कम नहीं लगता है। इसके परिणामस्वरुप योनि में ऐंठन (vaginal spasm) के साथ ही पूरे शरीर में अकड़न का अनुभव होता है।

YOU MAY LIKE
Scroll