छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम करने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके..

छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम – 15,000 से अधिक लोगों पर हुई एक स्टडी के आधार पर पता चलता है कि, पेनिस की औसत लंबाई 3.6 इंच (9.1 सेमी) होती है। जबकि इरेक्ट होने के बाद इसकी लंबाई 5.2 इंच (13.1 सेमी) होती है। वहीं, 9.3 सेंटीमीटर या 3.66 इंच से कम साइज की इरेक्टेड पेनिस को माइक्रोपेनिस की कैटेगरी में गिना जाता है। तो इसका क्या मतलब है? क्या छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम नहीं किया जा सकता है? या जिन पुरुषों का पेनिस साइज छोटा है उनकी सेक्शुअल लाइफ सेटिस्फायिंग नहीं होती है? जानते हैं ‘हैलो स्वास्थ्य’ के इस आर्टिकल में कि कैसे आप छोटे लिंग के साथ भी बेहतर समागम कर सकते हैं।

औसत पेनिस साइज के आँकड़े क्या कहते हैं? – औसत लिंग के आकार पर अनुमान अभी का अलग-अलग है। बहुत से लोग मानते हैं कि एक सामान्य पेनिस 6 इंच लंबी होती है। लेकिन यह गलत और भ्रामक है। इससे पुरुषों में चिंता पैदा होती है। खासकर उनको समागम एंग्जायटी का सामना ज्यादा करना पड़ता है जिनको स्मॉल पेनिस सिंड्रोम की समस्या होती है।

 

औसतन नॉन-इरेक्टेड पेनिस का साइज 9.16 सेमी या 3.61 इंच होता है। औसतन इरेक्टेड पेनिस का साइज 13.12 सेमी या 5.17 इंच होता है।इरेक्टेड पेनिस जिसका साइज 6 इंच हो, ऐसा दुर्लभ है। इसके अलावा, 52,000 से अधिक हेट्रोसेक्शुअल पुरुषों और महिलाओं पर हुए शोध में पाया गया कि 85 प्रतिशत महिलाएं अपने पार्टनर के पेनिस साइज से संतुष्ट थीं। इसकी तुलना में, केवल 55 प्रतिशत पुरुष अपने लिंग के आकार से संतुष्ट थे।

 

 

क्या छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम नहीं किया जा सकता है? ज्यादातर माइक्रोपेनिस वाले लोग सामान्य सक्शुअल फंक्शन  में पार्टिसिपेट करते हैं। छोटे लिंग से हस्तमैथुन या संभोग करने की क्षमता प्रभावित नहीं होती है। छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम के लिए कुछ उपाय किए जा सकते हैं। अगर आप पेनिस-इन-वजाइना समागम करने का प्लान बना रहे हैं यहां कुछ समागम पोजीशन हैं, जिससे वजाइनल समागम  को छोटे लिंग के साथ बेहतर बनाया जा सकता है। जैसे.

छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम के लिए ए लेग अप पोजीशन इस समागम पोजीशन में पेनेट्रेशन बेहतर होता है। इसके साथ ही ज्यादा से ज्यादा सेक्शुअल प्लेजर के लिए पार्टनर का क्लिट तक पहुंचना आसान होता है। यह समागम पोजीशन अपनाते समय महिला साथी अपने कूल्हों के नीचे एक तकिया भी रख सकती है ताकि पेनिस को एंट्री करने में आसानी हो।

डॉगी स्टाइल से होगा छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम जब बात डीपर पेनेट्रेशन की हो तो डॉगी स्टाइल समागम पोजीशन सबसे अच्छी साबित होती है। यह एनल समागम के लिए भी बेस्ट पोजीशन मानी जाती है। छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम करने के लिए आप भी इस स्टाइल को अपना सकते हैं।

काउगर्ल पोजीशन  यह समागम पोजीशन गहरा पेनेट्रेशन सुनिश्चित कर सकती है। इस पोजीशन का बोनस पॉइंट यह है कि इसमें क्लिटोरिस स्टिमुलेशन भी किया जा सकता है। छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम करने के लिए आप ऊपर बताई गई समागम पोजीशन के अलावा फेस-टू-फेस और पाइल ड्राइवर भी ट्राई कर सकते हैं।

यदि आप पेनिस-इन-एनस समागम का प्लान बना रहे हैं एनस बेहद ही सेंसिटिव क्षेत्र होता है। गुदा अत्यधिक संवेदनशील तंत्रिका और कुछ बहुत पतली त्वचा से भरा होता है। इसलिए, एक कम साइज के पेनिस से भी इस हिस्से को नुकसान पहुंच सकता है। छोटे लिंग के साथ बेहतर एनल समागम के लिए समागम लुब्रिकेंट्स का उपयोग करना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही ये कुछ पोजीशन आपके सेक्शुअल प्लेजर को बढ़ा सकती हैं। जैसे.

डॉगी स्टाइल  यह गुदा मैथुन के लिए सबसे आसान पोजीशन है और शुरुआती एनल समागम के लिए सबसे आदर्श भी है। हां, इसे करने से पहले कई तरह की सावधानियों को ध्यान में जरूर रखना चाहिए। वजाइनल समागम की ही तरह इसमें भीसमागम स्नेहक  और कॉन्डम का इस्तेमाल जरूरी है। सेक्शुअल हाइजीन का पूरा ख्याल रखें क्योंकि एनल समागम से यौन संचरित इन्फेक्शन्स  होने का खतरा ज्यादा रहता है।

प्लैंक पोजीशन  यह काफी हद तक मिशनरी समागम पोजीशन  से मिलती जुलती है। इसमें पेनिस को पुश करने के लिए एक टाइट स्पेस मिलता है जो कि दोनों ही पार्टनर्स के प्लेजर को बढ़ाता है। नतीजन, स्मॉल पेनिस साइज के साथ भी सक्शुअल इंटरकोर्स अच्छा होता है।

मिशनरी एनल (missionary anal) यह क्लासिक समागम पोजीशन बहुत बट-फ्रेंडली है। इससे ए-स्पॉट को उत्तेजित करना आसान होता है। नीचे एक पिलो का उपयोग करके बॉटम को और भी ऊंचा उठाने में मदद मिल सकती है जिससे डीप पेनेट्रेशन (deep penetration) की संभावना अच्छी हो जाती है।

छोटे लिंग के साथ बेहतर समागम के समय ये बातें ध्यान दें- यदि आप अपने लिंग के आकार के बारे में चिंतित हैं, तो आपके लिए अगले समागम सेशन के दौरान कुछ बातों को ध्यान में रखना जरूरी है। जैसे- दूसरों से अपनी तुलना न करें। खुद पर विश्वास रखें। पेनिस साइज के बारे में ज्यादा चिंता करने से आपकी सेक्शुअल परफॉरमेंस और खराब हो सकती है।

समागम टॉयज और प्रॉप्स का उपयोग करने से हिचकिचाएं नहीं। सेक्शुअल एक्टिविटीज में इनके इस्तेमाल से आप बेडरूम में और अच्छा परफॉर्म कर सकते हैं। अपने कूल्हे के लचीलेपन (hip flexibility) में सुधार करें। यह डीप पेनेट्रेशन के लिए अच्छा माना जाता है। इसके लिए सिंपल हिप स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज (hip stretching exercise) करें।

उपचार – संज्ञानात्मक व्यवहार थेरिपी  (सीबीटी) का भी सहारा ले सकते हैं। इस प्रकार की थेरिपी से यह समझने में मदद मिलती है कि स्मॉल पेनिस साइज के विचार उनके यौन-संबंध और मैरिड लाइफ को कैसे प्रभावित करते हैं। सीबीटी उन्हें चिंता को कम करने के तरीके खोजने में मदद कर सकती है। समागम थेरिपी (sex therapy) या कपल्स काउंसलिंग : जब लिंग के आकार की चिंताएं किसी व्यक्ति के रिश्ते या समागम करने की क्षमता को प्रभावित करती हैं, तो चिंता को दूर करने के लिए थेरिपी कारगर साबित हो सकती है।

एक बड़ा पेनिस से-क्शुअल सैटिस्फैक्शन के लिए आवश्यक नहीं है। लेकिन, आत्मविश्वास, कम्युनिकेशन और नई चीजों की कोशिश करने की जरुरत होती है। उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा। इस विषय से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

YOU MAY LIKE
Scroll